चीनी कारखाने में हिंसा के बाद Apple के भारत में iPhone का उत्पादन बढ़ाने की तैयारी

अमेरिकी स्मार्टफोन कंपनी Apple ने iPhone का कुछ उत्पादन चीन से बाहर जाने की योजना पर आगे बढ़ना शुरू कर दिया है। कंपनी ने आपूर्तिकर्ताओं से विशेषतौर पर भारत और वियतनाम में नामांकन की योजना बनाने के लिए कहा है। इसके अलावा फॉक्सकॉन जैसी ताइवान की जिम्मेदारियां प्राधिकरण पर भी एपल अपनी संलग्नता को कम करना चाहती हैं।

वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में बताया गया है कि फॉक्सकॉन के चीन में झेंग्झौ के संयंत्र में हिंसक प्रदर्शनों के बाद उसके उत्पादन पर असर पड़ा है। इस वजह से एपल अपने प्रोडक्शन का कुछ हिस्सा चीन से बाहर ले जाने की तैयारी कर रहा है। इस फैक्ट्री में कई और एपल के कुछ अन्य प्रोडक्ट बनाए जाते हैं। यह कभी-कभी विज्ञापन प्रसारण के उत्पादन में लगभग 85 प्रतिशत का योगदान देता है। एपल ने अपने आपूर्तिकर्ताओं से कहा है कि वह चीन से उत्पादन बढ़ाना चाहता है। पिछले महीने की शुरुआत में फॉक्सकॉन के गठजोड़ में गड़बड़ी शुरू होने के बाद एपल ने कई दावों के बारे में काकी शिपमेंट्स में रेटिंग का अनुमान लगाया था।

सबसे बड़े कार्यक्षेत्र में वेतन के भुगतान में देरी और कोरोना के कारण पाबंदियों के कारण बड़ी संख्या में श्रमिकों ने विरोध प्रदर्शन किया। इसके बाद Foxconn इस्तीफा देने वाले कर्मचारियों को 10,000 येन (लगभग 1,14,000 रुपये) के भुगतान की पेशकश की गई थी। कंपनी ने नए वर्कर्स से पेंशन से जुड़ी तकनीकी गलती के लिए जो भी दावा किया था। इस फैक्ट्री से 20,000 से अधिक कर्मचारियों ने इस्तीफा दे दिया है। फॉक्सकन फैक्टर में स्थिति को सामान्य करने में जुटी है।

हाल ही में फॉक्सकॉन ने बड़ी संख्या में वर्कर्स की हायरिंग की थी। कंपनी ने नए वर्कर्स को अधिक वेतन के साथ ही बोनस देने का भी वादा किया था। कोरोना के निशान के बाद पाबंदियों के झुलसने की वजह से फॉक्सकॉन को कई वर्कर्स को आइसोलेट करना पड़ा था। इसके अलावा, बहुत से कर्मचारी क्षय में खराब होने के कारण चले गए थे। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग जीरो पॉलिसी पॉलिसी के तहत महामारी से निपटने के लिए उपाय करने जा रहे हैं। भारत में फॉक्सकॉन का ढांचा भी है जिसका कई प्रोडक्शन करता है।

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्ट फोन समीक्षा और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले विशेष रूप से दोस्ती करने के लिए 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित खबरें

amar-bangla-patrika

You may also like